भोरमदेव मंदिर का इतिहास और मंदिर की यात्रा से जुड़ी जानकारी

इस प्राचीन मंदिर के बारे में जानना चाहते है तो आपको हमारे इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढना चाहिये 

Jereesh Thomas f. imge

भोरमदेव मंदिर छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले के चौरागाँव में स्थित एक प्राचीन मंदिर है, जिसे लगभग 1000 बर्ष पुराना माना जाता है। भोरमदेव मंदिर भगवान शिव को समर्पित है, जिसका निर्माण 1089 ई. में फनीनागवंशी शासक गोपाल देव द्वारा करबाया गया था। इस मंदिर की सरंचना कोणार्क मंदिर और खुजराहो से मिलती जुलती है, जिस कारण भोरमदेव मंदिर को लोकप्रिय से छत्तीसगढ़ का खुजराहो भी कहा जाता है। यह मंदिर भगवान शिव और भगवान गणेश की छवियों के अलावा, भगवान विष्णु के दस अवतारों की छवियों को भी चित्रित करता है। भोरमदेव मंदिर नागर शैली और जटिल नक्काशीदार चित्र कला का एक शानदार नमूना है जो श्र्धालुयों के साथ साथ देश भर से इतिहास और कला प्रेमियों को भी आकर्षित करता है।

ऐतिहासिक और पुरातात्विक विभाग द्वारा की गयी खोज और यहाँ मिले शिलालेखो के अनुसार भोरमदेव मंदिर का इतिहास 10 वीं से 12 वीं शताब्दी के बीच कलचुरी काल का माना जाता है। भोरमदेव मंदिर के निर्माण का श्रेय फैनिनगवंश वंश के लक्ष्मण देव राय और गोपाल देव को दिया गया है। मंदिर परिसर को अक्सर “पत्थर में बिखरी कविता” के रूप में जाना जाता है। इस क्षेत्र के गोंड आदिवासी भगवान शिव की पूजा करते थे, जिन्हें वे भोरमदेव कहते थे इसीलिए इस मंदिर को भोरमदेव मंदिर के नाम से जाना जाने लगा। इतिहासकारों की माने तो यह मंदिर पूरे खजुराहो समूह से भी पुराना है।

भोरमदेव मंदिर के आर्किटेक्चर के बारे में बात करें तो इस मंदिर की सरंचना कोणार्क मंदिर और खुजराहो से मिलती जुलती है। जी हाँ इस मंदिर में भी कोणार्क मंदिर और खुजराहो के समान स्थापत्य शैली में कामुक मूर्तियों के साथ कुछ वास्तुशिल्प विशेषताओं को जोड़ा गया है। गर्भगृह मंदिर का प्राथमिक परिक्षेत्र है जहाँ शिव लिंग के रूप में पीठासीन देवता शिव की पूजा की जाती है।

मंदिर पूर्व की ओर एक प्रवेश द्वार के साथ बनाया गया है जो एक ही दिशा का सामना करता है। इसके अतिरिक्त, दक्षिण और उत्तर दिशाओं के लिए दो और दरवाजे खुलते हैं। हालांकि, पश्चिमी दिशा की ओर कोई दरवाजा नहीं है। मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार में गंगा और यमुना की प्रतिमाएँ दिखती हैं। मंदिर में भगवान शिव और भगवान गणेश के साथ साथ भगवान विष्णु के दस अवतारों की छवियों को भी दीवारों में चित्रित देखा जा सकता है।

Hot this week

पिछले एक साल में रेलवे ने कुल कितने लोगों को दी नौकरी, 

.रेल मंत्री अश्विनी वैश्णव ने रेल बजट को लेकर...

Nita Ambani दोबारा ‘अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी’ की सदस्य चुनी गई

तरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी ने एक बार फिर Nita Ambani में...

अगर आप मां वैष्णो देवी के दरबार जाने का बना रहे हैं पहले जान लें ये खबर

माता वैष्णो देवी जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए अहम...

हिमाचल के कैदी को आगरा लाए पुलिसकर्मी हाथ में हथकड़ी दिल में ताज देखने की हसरत…

विश्व के सात आश्चर्यों में शुमार ताजमहल को देखने...

Topics

पिछले एक साल में रेलवे ने कुल कितने लोगों को दी नौकरी, 

.रेल मंत्री अश्विनी वैश्णव ने रेल बजट को लेकर...

Nita Ambani दोबारा ‘अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी’ की सदस्य चुनी गई

तरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी ने एक बार फिर Nita Ambani में...

अगर आप मां वैष्णो देवी के दरबार जाने का बना रहे हैं पहले जान लें ये खबर

माता वैष्णो देवी जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए अहम...

Related Articles