• 25-05-2024 16:58:08
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

आगबबूला नेतन्याहू के ठंडे पड़े तेवर, बाइडन के फोन के बाद क्यों बदला इजरायली PM का मिजाज

इजरायल और ईरान में विवाद बढ़ता जा रहा है। इजरायल ने पहले कहा था वो ईरान से बहुत जल्द बदला लेगा लेकिन हमेशा अपने दुश्मनों को अकेले दम पर जवाब देने के लिए मशहूर इजरायल के तेवर अब थोड़े नरम दिख रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के एक फोन के बाद ऐसा क्यों हुआ है आइए जानते हैं।

नेतन्याहू ने बीते दिन नेतन्याहू की 'वार कैबिनेट' ने एक आपात बैठक की। इसमें कई नेताओं ने जवाबी कार्रवाई का समर्थन किया, लेकिन पैनल हमले के समय और तरीके पर कोई राय नहीं बना पाया।

ईरान और इजरायल में विवाद बढ़ता जा रहा है। ईरान के हमले के बाद इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने उससे बदला लेने की कसम खाई थी। इजरायल को हमेशा अपने दुश्मनों से बदला लेने के लिए जाना जाता है, लेकिन इस बार उसके तेवर थोड़े नरम दिख रहे हैं। ऐसा क्यों है आइए जानते हैं।

) (यह भी पढ़े ) बिहार के गया संसदीय क्षेत्र के बाराचट्ठी में शनिवार को राजद नेता तेजस्वी यादव व वीआईपी प्रमुख मुकेश सहनी ने चुनाव प्रचार किया

 

 

 

इजरायल पर ईरान ने लगाए ये आरोप

इजरायल (Iran Vs Israel) पर सीरिया में ईरानी दूतावास पर हमला कर उसके राजदूतों को मारने का आरोप है। ईरान ने ये आरोप लगाते हुए इजरायल पर 300 ड्रोन और मिसाइलों से अटैक किया। हालांकि, इजरायल का डिफेंस सिस्टम मजबूत होने के कारण उसने कई मिसाइलों को हवा में ही नष्ट कर दिया, लेकिन कुछ ने नुकसान भी पहुंचाया। 

 

 

 

नेतन्याहू के नरम रुख की वजह है अमेरिका

दरअसल, नेतन्याहू ने बीते दिन नेतन्याहू की 'वार कैबिनेट' ने एक आपात बैठक की। इसमें कई नेताओं ने जवाबी कार्रवाई का समर्थन किया, लेकिन पैनल हमले के समय और तरीके पर कोई राय नहीं बना पाया। इसके बाद इजरायली पीएम को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन का फोन आया और उन्होंने साफ कर दिया कि अगर युद्ध हुआ तो अमेरिका सक्रिय तौर पर इसमें भाग नहीं लेगा।

इस कारण नेतन्याहू के तेवर ठंडे पड़े

जो बाइडन ने कहा कि वो इजरायल को हथियार और दूसरी मदद देगा, लेकिन खुद युद्ध में उतरने से इनकार कर दिया। इसके बाद से नेतन्याहू के तेवर ठंडे पड़ गए।

(यह भी पढ़े )घर में सो रहे थे 3 बच्चे, साथ नहीं थी मां, अचानक लग गई आग, तीनों की गई जान

 

इस कारण अमेरिका बना रहा दूरी

दरअसल, जो बाइडन ने कहा कि अगर अमेरिका युद्ध में कूदा तो पश्चिमी एशिया के हालात बिगड़ जाएंगे। अमेरिका ने कहा कि वो इजरायल की सुरक्षा के लिए हमेशा खड़ा है, लेकिन युद्ध नहीं चाहता है। अमेरिका के बाद दूसरे देशों ने भी युद्ध न लड़ने की बात कही है।

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.