• 15-04-2024 00:36:45
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

मोर रायपुर

रियल इस्टेट फॉर यू : प्रॉपर्टी डीलिंग बिज़नेस क्या है , कैसे शुरू करें , प्रॉपर्टी कितनी तरह की होती है, प्रॉपर्टी की तलाश कैसे करें , कस्टमर कैसे खोजें , इस व्यापार में सफल होने के लिये पॉवर टिप्स

पूरब टाइम्स , रायपुर . प्रॉपर्टी का बिज़नेस  एक ऐसा बिजनेस है जिसके द्वारा दुनिया के काफी लोग अमीर बनने में कामयाब हुए है. यहीं नहीं, अपनी कमाई के द्वारा अपने शहर व प्रदेश के के अमीर लोगों की लिस्ट में शामिल हुए है लेकिन आप इस व्यापार की शुरुआत ज़ीरो इंवेस्टमेंट से भी कर सकते हैं . आज हम इसी तरीक़े को विस्तार से बतायेंगे.

सुधि पाठकों, हमसे जुड़े लोग पिछले लगभग 40 सालों से प्रॉपर्टे से जुड़ा व्यापार कर रहे हैं . जिन्में प्रॉपर्टी डीलर , प्रॉपर्टी के इंवेस्टर , प्रोपर्टी का व्यापार करने वाले , राजस्व नियमों की जानकारी रखने वाले , प्रमोटर , डेवेलेपर, बिल्डर , आर्किटेक्ट , इंजीनियर, वास्तु-शास्त्री , वकील इत्यादि हैं . हम “रियलिस्टेट फॉर यू “ नाम से एक साप्ताहिक संस्करण निकालने जा रहे हैं जिसमें उपरोक्त सभी विषय विशेषज्ञों से प्राप्त जानकारी , आलेख , इंटर्व्यू , देश , छत्तीसगढ़ व रायपुर में चल रहे रियल इस्टेट व्यापार के ट्रेंड , अनेक सरकारी योजनाएं , प्राइवेट रियल इस्टेट प्रोजेक्ट की जानकारी इत्यादि प्रकाशित करेंगे . इस क्षेत्र में आपकी जानकारी को मज़बूत करने के लिये , पूरब टाइम्स की यह पेशकश

000000000000

प्रॉपर्टी डीलिंग बिजनेस कैसे शुरू करें , जीरो इंवेस्टमेंट प्रापर्टी बिजनेस क्या है? इसे कैसे करें?

प्रापर्टी का बिजनेस को जीरो बजट में भी शुरू कर सकते है. वैसे, प्रापर्टी का बिजनेस  दो तरीके से किया जा सकता है. पहला, जीरो इंवेस्टमेंट द्वारा जिसे प्रॉपर्टी डीलिंग और दूसरा, इंवेस्टमेंट द्वारा जिसे प्रॉपर्टी का व्यापार कह सकते हैं .

जीरो इंवेस्टमेंट प्रापर्टी बिजनेस में अपनी जेब से एक पैसा नहीं लगाना होता है. इसके बावजूद हर माह हजारों रुपयों की कमाई होती है, कभी-कभी लाखों भी. जीरो इंवेस्टमेंट प्रापर्टी बिजनेस के अंतर्गत प्रॉपर्टी डीलर, रियल एस्टेट कंसल्टेंट, रियल एस्टेट ब्रोकर, प्रॉपर्टी एजेंट बन कर इस बिजनेस को कर सकते हैं. मकान, दुकान, जमीन इत्यादि की बिक्री करवाने या किराए पर दिलवाने में प्रॉपर्टी ओनर और बायर या किरायेदार को एक-दुसरे से मिलवाने और डील फायनल करवाना होता है.

डील फाइनल होने पर दोनों ओर से कमीशन मिलता है, जिसे ब्रोकरेज भी कहा जाता है. मार्केट रेट के अनुसार कमीशन के तौर पर एक या दो माह का किराया मिलता है. इसी तरह से प्रापर्टी सेल करवाने पर 1 से 2 परसेंट ब्रोकरेज मिलता है. यह अलग-अलग शहरों के हिसाब से कम या ज्यादा भी हो सकता है. अनेक प्रापर्टी ब्रोकर अपने काम से लाखों रूपए हर माह कमा रहे हैं.  इस बिजनेस को शुरू करने के लिए किसी बड़ी डिग्री की आवश्यकता नहीं होती. लेकिन आप में बात करने का अंदाजा आपका व्यवहार और सही प्रॉपर्टी की परख होनी चाहिए.

यदि आप प्रापर्टी बिजनेस का काम शुरू करना चाहते है तो आपको इसे शुरू करने से पहले कुछ जरूरी बातों की जानकारी होनी चाहिए. यहां हम शॉर्ट में उन बातों की जानकारी दे रहें हैं.

एक प्रॉपर्टी डीलर या रियल एस्टेट एजेंट का काम होता है. प्रापर्टी की तलाश करना. प्रापर्टी के ऑनर से डील करवाना, कस्टमर का पता लगाना, उन्हें प्रापर्टी दिखवाना, दोनों की डील फाइनल करवाना, डील फाइनल होने के बाद एग्रीमेंट या रजिस्ट्री के पेपर तैयार करवाना होता है. इन सब बातों को फाइनल होने में कई दिन लग जाते हैं. बड़ी डील फाइनल होने में महिनों लग सकते है.

इस बिजनेस को शुरू करने के पहले यह जान लें इस बिजनेस के शुरूआत में काफी भागदौड़ और मेहनत करनी पड़ेगी. तब जाकर इस क्षेत्र में आपको अनुभव आएगा. इस फिल्ड में अनुभव ना होने पर किसी जानकार को अपने साथ पार्टनर बना कर इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं. ऐसे भी इस क्षेत्र में एक से भले दो होने पर काम जल्दी ग्रो करता है.

0000000000000000

प्रापर्टी की तलाश कैसे करें

सबसे पहले यह निर्धारित करें की आप किस क्षेत्र में काम करना चाहते हैं. उसे टारगेट करें. उस क्षेत्र के उन प्राॅपर्टी की एक लिस्ट बनाएं जो किराए से देना चाहते है या बेचना चाहते हैं. जिसमें कई तरह की प्रॉपर्टी हो सकती है.  किराए से देने वाली प्रॉपर्टी जिसमें शॉप, ऑफिस, गोडाउन, फ्लैट या फिर लैंड आदि हो सकते हैं.

आमतौर पर प्रॉपर्टी की चार श्रेणी होती है. रेजिडेंशियल यानी फ्लैटबंगलो, रो हाउस, मकान जिसका उपयोग लोग रहने के लिए करते हैं.

कॉमर्शियल यानी शॉप, शोरूम, गोडाउन आदि जिसका उपयोग बिजनेस के लिए करते हैं. इंडस्ट्रीयल लैंड यानी फैक्ट्री या किसी उद्योग के लिए इस्तेमाल करना तथा प्लाट यानी जमीन जो खाली या खेती के लिए उपयोगी हो सकती है. 

1.बिकने वाली प्रापर्टी के ऑनर से मिल कर सारी जानकारी लें. उनके टर्म एण्ड कंडिशन को अच्छे से जान लें. उन बातों को डायरी में नोट कर लें. इसके साथ उनके नंबर उनसे मिलने व बात करने का समय यह सब आपकी जानकारी में होनी चाहिए.

2.प्रापर्टी की जानकारी के लिए लोकल के सारे अखबार पर ध्यान रखें आप जिस क्षेत्र में काम करना चाहते हैं. उस क्षेत्र के प्रापर्टी पर नजर रखें. उनके ऑनर से मिलकर लोकेशन देखकर आएं ताकि कस्टमर को समझाकर उसे कवेंस करने में सहुलियत होगी.

3.इंटरनेट पर बहुत सी ऐसे साइट है जो फ्री में या कुछ पैसे लेकर प्रापर्टी की जानकारी दे रहे हैं. मैजिक ब्रिक, 99 एकर्स, कॉमनफ्लोर, क्वीकर आदि पर आप प्रापर्टी की तलाश कर सकते हैं. इनके पैकेज का लाभ भी ले सकते हैं. सोशल साइट जैसे फेसबुक पर आपको बहुत सारे पेज मिल जाएंगे. वाट्सएप ग्रुप द्वारा दूसरे ब्रोकर से जानकारी भी हासिल कर सकते है.

00000000000000

पॉवर टिप्स

1- प्रापर्टी बिजनेस के लिए प्रॉपर्टी की बेसिक जानकारी होनी चाहिए. तभी आप इस फिल्ड में सक्सेस हो सकते हैं. जब आप मेहनत करके सारा डाटा तैयार कर लेंगे. आपको आगे बढ़ाने में परेशानी नहीं होगी.

2- आपके पास जब डाटा जमा हो जाए तो आप अपना काम शुरू कर सकते हैं. इसे आप अपने घर से या शॉप किराए पर लेकर ऑफिस शुरू कर सकते हैं. इसके लिए स्थानीय अखबार में क्लासीफाइड में अपने बिजनेस एड देना शुरू करें. आज के ज़माने में सोशल मीडिया व इंटरनेट , व्यापार को बढ़ाने के सबसे आवश्यक साधन हो गये हैं . अपना वेब साइट बनायें व उसकी हर माध्यम से पब्लिसिटी करें .

3- वर्तमान में हर प्रॉपर्टी डीलर या रियल इस्टेट एजेंट को रेरा के तहत अपना प्रॉपर्टी डीलर का रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है . जिसके लिए छत्तीसगढ़ में रजिस्ट्रेशन फीस 10000 है तथा रियल इस्टेट कंपनी के लिये 50000 निर्धारित है . इंटरनेट पर प्रापर्टी वाली वेबसाइट पर नजर रखें. रियल स्टेट के वेबसाइट के पैकेज लें. सिटी डायरेक्टरी वाले साइट पर अपने बिजनेस को रजिस्टर्ड करें. 

4- क्वीकर, जस्ट  डायल , फेसबुक, वाट्सएप व अन्य माध्यम से पर अपने बिजनेस को प्रमोट कर कस्टमर की तलाश करें.

5- स्थानीय अखबार से सेल या रेंट से देने वाली प्रॉपर्टी  की लिस्ट तैयार करें. फोन द्वारा उनसे जानकारी हासिल करके अपने पास मौजूद लिस्ट में से  उनकी जरूरत के हिसाब से कोई प्रापर्टी हो तो इस बारे में उन्हें बताएं. साथ ही उन्हें लोकेशन की फोटो भेंजे. उन्हें पसंद आने पर लोकेश्न पर ले जाने की टाइमिंग सेट कर सकते हैं.

6- जब आप किसी क्लाइंट को लोकेशन पर लें जाएं इसके पहले प्रापर्टी के ऑनर से भी टाइम ले लें. ऐसा न हो जब आप पहुंचे वहां ऑनर से मुलाकात ही ना हो. और आपका टाइम वेस्ट हो जाएं.

7- आपके अंदर कांफिडेंस और डेयरिंग है तो आप इस फिल्ड में काफी अच्छी कमाई कर सकते है, पर इसके लिए थोड़ा समय देना होगा है. धीरे-धीरे आप बिजनेस की हर छोटी-छोटी बारिकियों को सीख जाएंगे. इसका लाभ आपको मिलने लगेगा.

00000000000

ज़ीरो इंवेस्टमेंट प्रॉपर्टी डीलिंग बिजनेस में, आपको खुद कोई प्रॉपर्टी खरीदने की आवश्यकता नहीं होती है  बल्कि आपको प्रॉपर्टी बेचने वालों और प्रॉपर्टी खरीदने वालों को ढूंढना होता है. इस बिजनेस से भी इसलिए बम्पर कमाई होती है क्योंकि प्रॉपर्टी के सौदे मोटे या बड़े होते हैं. ऐसे में प्रॉपर्टी डीलर कम से कम 1-2% अपना कमीशन तो लेते ही लेते हैं.

इंजी. मधुर चितलांग्या

संपादक , पूरब टाइम्स

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.