• 21-06-2024 02:54:35
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

बिलासपुर

75वाँ गणतंत्र दिवस छत्तीसगढ़ उच्च् न्यायालय, डां. भीमराव अम्बेडकर जी के...प्रतिमा का अनावरण किया गया

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किये गए ।
राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया इसके उपरांत राष्ट्रगान किया गया।
भारत माता की जय के नारों के साथ गणतंत्र दिवस समारोह संपन्न हुआ

उद्घोष से माहौल गूंज उठा और आकर्षक प्रस्तुति दी गई।
बिलासपुर : मा.उच्च न्यायालय छत्तीसगढ़ द्वारा प्रेस विज्ञप्ति से सूचित किया गया कि, छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय, बिलासपुर में आयोजित 75वें गणतंत्र दिवस समारोह के अवसर पर सर्वप्रथम माननीय मुख्य न्यायाधीश श्री रमेश सिन्हा द्वारा न्यायालय भवन में स्थापित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किये तत्पश्चात् निर्धारित समय पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया। इसके उपरांत राष्ट्रगान और भारत माता की जय के उद्घोष से माहौल गूंज उठा। द्वितीय और बी कंपनी बारहवीं वाहिनी (भारत रक्षित), 7वीं बटालियन छ.ग. एन.सी.सी. (बालिका एवं बालक प्लाटून), टीम एन.एस.एस. तथा परेड समन्वयक श्री डी एस बैस (उप पुलिस अधीक्षक), सुरक्षा अधिकारी उच्च न्यायालय की परेड आकर्षण का केन्द्र रही। माननीय मुख्य न्यायाधीश महोदय द्वारा परेड की सलामी ली गई। केन्द्रीय जेल, बिलासपुर के बैंड पार्टी द्वारा आकर्षक प्रस्तुति दी गई। माननीय मुख्य न्यायाधीश महोदय द्वारा कार्यकम में उपस्थित समस्त आगुंतकों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ दी गई।
 

बाबासाहेब जी की प्रतिमा का अनावरण किया गया । 
भारतीय संविधान के शिल्पकार, आधुनिक भारतीय चिंतक, समाज सुधारक एवं भारत रत्न माननीय भीमराव आम्बेडकर जी के प्रतिमा का अनावरण  गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय परिसर के गार्डन में  माननीय मुख्य न्यायाधिपति महोदय श्री रमेश सिन्हा द्वारा किया गया। उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व दिनांक 02 अक्टूबर 2023 को गांधी जयंती के शुभ अवसर पर छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय भवन में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की प्रतिमा का भी अनावरण माननीय मुख्य न्यायाधिपति महोदय द्वारा किया गया था।
 

न्यायिक प्रणाली के लिये एक मार्गदर्शक प्रकाश विषय पर संबोधन केंद्रित था । 
माननीय मुख्य न्यायाधिपति महोदय ने उपस्थित आगंतुको को संबोधित करते हुए डॉ. बी.आर. अम्बेडकर को 'भारतीय संविधान का जनक" बताया । उन्होंने आगे व्यक्त किया कि डॉ अम्बेडकर की विरासत हमारी न्यायिक प्रणाली के लिये एक मार्गदर्शक प्रकाश है और उन मूल्यों की याद दिलाती है जिनका हम पालन करते हैं। सामाजिक भेदभाव मिटाने और सभी के लिये समानता सुनिश्चित करने की दिशा में उनके अथक प्रयास ही हमारे संविधान का आधार है। बाबा साहब अम्बेडकर ने हमें एक नक्शा व नैतिक ढांचा दिया जिस रास्ते पर चलने की हमारी जिम्मेदारी है।
 

स्मृति चिन्ह प्रदान करते हुए सम्मानित किया गया।
उच्च न्यायालय, बिलासपुर में आयोजित 75वें गणतंत्र दिवस समारोह के अवसर पर परेड में शामिल द्वितीय और बी कंपनी बारहवीं वाहिनी (भारत रक्षित) उच्च न्यायालय आवासीय परिसर, 7वीं बटालियन छ.ग. एन.सी.सी. (बालिका एवं बालक प्लाटून) डी.पी. विप्र कॉलेज, बिलासपुर, एन.एस.एस. अटल बिहारी बाजपेयी विश्वविद्यालय तथा परेड समन्वयक श्री डी एस बैस (उप पुलिस अधीक्षक), सुरक्षा अधिकारी उच्च न्यायालय को माननीय मुख्य न्यायाधिपति महोदय श्री रमेश सिन्हा द्वारा स्मृति चिन्ह प्रदान करते हुए सम्मानित किया गया।

समारोह में स्वस्फूर्त लगभग 5000 से भी अधिक संख्या में लोग व न्यायिक अधिकारीगण की गरिमामयी उपस्थिति दर्ज हुई।
गणतंत्र दिवस समारोह के अवसर पर छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के माननीय न्यायमूर्तिगण, सेवानिवृत्त माननीय न्यायमूर्तिगण, रजिस्ट्रार जनरल, महाधिवक्ता, अतिरिक्त महाधिवक्ता व शासकीय अधिवक्तागण, उच्च न्यायालय व जिला न्यायालय के बार एसोसिएशन के पदाधिकारी एवं सदस्य, उच्च न्यायालय कर्मचारी संघ के पदाधिकारी एवं सदस्य, रजिस्ट्री के अधिकारी व कर्मचारीगण एवं बिलासपुर जिला न्यायालय के न्यायिक अधिकारीगण की गरिमामयी उपस्थिति में सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर उच्च न्यायालय परिसर के आस-पास के ग्रामों के निवासी एवं स्कूली बच्चे उत्साहपूर्वक शामिल हुये। इस समारोह में स्वस्फूर्त लगभग 5000 से भी अधिक संख्या में लोग शामिल हुये। गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में उच्च न्यायालय भवन, नवनिर्मित विस्तार भवन, छ.ग. राज्य न्यायिक अकादमी तथा ए.डी.आर. बिल्डिंग को आकर्षक प्रकाश व्यवस्था से सुसज्जित किया गया था।

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.