• 19-05-2024 14:34:23
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

नए साल पर इन दिव्य मंदिरों का करें दर्शन, सालभर बरसेगी भगवान की कृपा, जानें खासियत

चंद्रिका देवी मंदिर लखनऊ के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक मंदिर है. यह गोमती नदी के तट पर स्थित है. माना जाता है कि इस मंदिर की स्थापना लक्ष्मण के पुत्र राजकुमार चंद्रकेतु ने की थी. मंदिर का निर्माण माता पार्वती के सम्मान में किया गया था. यहां पर भगवान शिव की विशाल मूर्ति भी है. चंद्रिका देवी मंदिर लखनऊ में कठवारा, बक्शी का तालाब के पास है. इस जगह आप चारबाग रेलवे स्टेशन से ऑटो, कैब और सिटी बस के जरिए पहुंच सकते हैं.डालीगंज स्थित मनकामेश्वर मंदिर करीब 1000 वर्ष पुराना मंदिर है, जो गोमती नदी के तट पर स्थित है. ये मंदिर लखनऊ के सबसे महत्वपूर्ण मंदिर में से एक है. पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान लक्ष्मण ने उस स्थान पर भगवान शिव से प्रार्थना की थी. इसके बाद एक मंदिर का निर्माण किया गया था. माना जाता है कि यहां भगवान से की गई मनोकामना अवश्य पूरी होती है, इसलिए इसका नाम मनकामेश्वर पड़ा है. आप यहां चारबाग रेलवे स्टेशन से टैक्सी, बस या फिर कैब लेकर आसानी से आ सकते हैं.यह संकट मोचन हनुमान मंदिर के नाम से जाना जाता है. हनुमान सेतु मंदिर लखनऊ विश्वविद्यालय के सामने है. गोमती नदी के तट पर 1960 के दशक में कैंची, उत्तराखंड के नीम करोली बाबा द्वारा स्थापना की गई थी. यहां मंगलवार और शनिवार को दर्शन करने के लिए भारी भीड़ लगती है. आप यहां चारबाग रेलवे स्टेशन से टैक्सी, बस और कैब लेकर आसानी से आ सकते हैं.यह मंदिर प्रभु वेंकटेश्वर (बालाजी) को समर्पित है, जो भगवान विष्णु का अवतार माने जाते हैं. इस मंदिर की कलाकृति और नक्काशी दक्षिण भारत की मंदिरों की तरह है. यहां पर आकर आप खुद को दक्षिण भारत के किसी मंदिर में पहुंचा हुआ पाएंगे. मंदिर प्रांगण में देवी पद्मावती और नवग्रह (नौ ग्रह) की मूर्तियां और भगवान हनुमान हैं. श्री वेंकटेश्वर मंदिर के लिए आपको बंथरा सिकंदरपुर, लखनऊ आना होगा, जबकि चारबाग रेलवे स्टेशन से ऑटो कैब या फिर सिटी बस के जरिए पहुंच सकते हैं.मोहन रोड स्थित बुद्धेश्वर महादेव मंदिर लखनऊ के मोहन रोड पर स्थित है. यहां पर भगवान लक्ष्मण ने पूजा अर्चना की थी और बुधवार के दिन देवों के देव महादेव ने उन्हें दर्शन दिया था. इसलिए इस मंदिर में सोमवार के बजाय बुधवार के दिन पूजा अर्चना करने का ज्यादा महत्व है. इस मंदिर की और एक खास बात है कि यहां बाबा का प्रतिदिन नए रूप में श्रृंगार किया जाता है. यह मंदिर सुबह 4 बजे खुल जाता है और रात 12 बजे बंद होता है.हनुमंत धाम मंदिर भगवान हनुमान के भक्तों के लिए आध्यात्मिक और शांतिपूर्ण स्थान है. इस मंदिर का इतिहास काफी पुराना है और यह आकर्षक वास्तुकला और डिजाइनिंग के साथ काफी सुंदर दिखता है. यहां भक्त आकर भगवान हनुमान की पूजा करते हैं और आशीर्वाद प्राप्त करते हैं. इस मंदिर की स्थापना संतों द्वारा की गई थी. आप यहां चारबाग रेलवे स्टेशन से ऑटो, कैब और सिटी बस के जरिए आसानी से पहुंच सकते है.विशेषता ने इसे भक्तों के लिए अद्वितीय और आकर्षक बना दिया है, जो शिव भक्तों के लिए एक विशेष पूजा स्थल बना हुआ है. यहां भक्तों का रोजाना तांता लगा रहता है.

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.