• 19-05-2024 13:54:57
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

पर्यावरण संरक्षण मंडल , छ.ग.-सदस्य सचिव पर्यावरण संरक्षण की जवाबदेही कौन तय करेगा?

पर्यावरण संरक्षण मंडल , छ.ग.-सदस्य सचिव पर्यावरण संरक्षण की जवाबदेही कौन तय करेगा?

क्या साक्ष्यों के अभाव में जनता पर्यावरण संरक्षण की वस्तुस्थिति से अनजान रहने को मजबूर है ?

.क्या वार्षिक प्रतिवेदन के अभाव में शासकीय जिम्मेदारी निभाने वाला अमला प्रतिक्रिया विहीन बने रहने को तैयार है ?

.क्या जन जागरूकता के अभाव में पर्यावरण संरक्षण के लिए जनता की प्रतिक्रिया को रोका जाना संभव है ?

पूरब टाइम्स , रायपुर . छ.ग. का पर्यावरण संरक्षण मंडल लगातार अपनी कार्यशैली में सुधार से जहां एक ओर छत्तीसगढ़ के पर्यावरण में सुधार कर रहा था वहीं आम जनता में इसकी विश्वसनीयता बढ़ती जा रही था. पिछले सदस्य सचिव आर. पी . तिवारी ने जी –जान लगाकर पर्यावरण विभाग की तरफ से पर्यावरण बेहतर करने के लिये मापन के नये उपकरण लगाने व आम जनता में पारदर्शिता लाने की कोशिश की थी , वह सब गुड़ गोबर होते दिख रही है . पिछले सदस्य सचिव के कार्यकाल में रिकॉर्ड्स व प्रतिवेदन को नियमानुसार ठीक से रखवाने की कोशिशें की गईं पर वे सभी कोशिशें अमलीजामा पहनते नहीं दिख रही हैं. नये सदस्य सचिव ना ही विभागीय परिचालन में ध्यान दे पा रहे हैं और ना ही पुराने कार्यक्रमों को ठीक से आगे बढ़ाने का काम कर पा रहे हैं . अल्पकाल में ही प्रशासनिक व्यवस्था पूरी तरह से भच्च होती दिख रही हैं . जहां पूरा छ.ग. पर्यावरण संरक्षण मंडल का अमला गंभीरता से काम करते दिखाई देता था वही सरे-आम कोतसही करते दिखने लगा है. सूत्रों से पता चला है वर्तमान में पदस्थ सदस्य सचिव , अन्य विभाग की ज़िम्मेदारी के कारण , इस विभाग के लिये पर्याप्त समय नहीं दे पाते हैं और ना ही जनता से मिलकर उनकी समस्या का समाधान करने उपलब्ध रहते हैं. पूरा विभाग फिर से अपारदर्शी स्थिति की ओर जाते हुए दिखने लगा है . पूरब टाइम्स ने समय सम्य पर प्रशासन व शासन के सामने पर्यावरण संरक्षण सहित अनेक मुद्दे लाये हैं. पर्यावरण संरक्षण विभाग की प्रशासनिक व रिपोर्टों से संबंधित अव्यवस्था पर पूरब टाइम्स की एक रिपोर्ट ..

पर्यावरण संरक्षण की जवाबदेही का हिसाब किताब कब दोगे सदस्य सचिव महोदय ?

,छत्तीसगढ़ के सदस्य सचिव पर्यावरण संरक्षण मंडल का कार्य व्यवहार अभी दस्तावेजिक कार्यवाहियों में बंद है और उसका सामाजिक अंकेक्षण अभी प्रारंभ नहीं हुआ है लेकिन अगले माह से छत्तीसगढ़ की नई सरकार पर्यावरण संरक्षण की कार्यवाहियों का आकलन करके वस्तुथित स्पष्ट देगी तो वहीं दूसरी ओर पर्यावरण संरक्षण मंडल के द्वारा विभिन्न प्रकार के प्रदूषणों की वास्तविक स्थिति स्पष्ट करने वाल वार्षिक प्रतिवेदन और उसके आकड़ों को प्रतिवेदित करने का व्यवहारिक आधार कार्यवाही वर्ष अंत में केंद्रीय पर्यावरण विभाग को प्रेषित करेगा . जिसमे प्रमाणित तौर पर यह स्पष्ट होगा कि विगत वर्ष छत्तीसगढ़ के पर्यावरणीय स्वास्थ्य की स्थिति क्या थी और इस स्थिति के कारण लोक स्वास्थ्य पर होने वाले दुष्परिणामों को रोकने वाली प्रशासकीय कार्यवाहियों को पूरा करने की जिम्मेदारी छत्तीसगढ़ के पर्यावरण संरक्षण मंडल के अधिकारियों कैसे पूरी की है ?

पर्यावरण जवाबदेहीसुनिश्चित्ता की पदेन जिम्मेदारी कब पूरी करोगे सदस्य सचिव महोदय ?

हमारे जीवनदायनी पर्यावरण को बचाने वाले दो शब्द, जिनके आज की दुनिया में बड़े अर्थ और बड़े प्रभाव हैं वे हैं पर्यावरण जवाबदेहीकुल मिलाकर ये दो शब्द हर उस चीज़ को प्रभावित करते हैं जो हमें नेटज़ीरो वर्ल्ड में आगे बढ़ने के लिए करनी चाहिए. हर कोई जानता है कि पर्यावरण का मतलब क्या है और शायद जवाबदेही भी, लेकिन क्या आप जानते हैं कि पर्यावरणीय जवाबदेही सुनिश्चित्ता कार्यवाही का तात्पर्य क्या है? पर्यावरणीय जवाबदेही काफी हद तक वित्तीय जवाबदेही की तरह है.  साधारण शब्दों में कहा जाय तो जैसे कि वित्तीय गतिविधियों को दुनिया भर में अधिकांश व्यवसाय लाभ और हानि को आंकड़ों के आधार पर मापते हैं और यह रिकॉर्ड बताता है कि हम कितना कमाते हैं, हम कितना खर्च करते हैं, और हमारे पास क्या बचा है (या नहीं :-) वैसे ही पर्यावरणीय जवाबदेही के समीक्षक आकड़े बताते है की हमने अपनी व्यवहारिक गतिविधियां करके अब तक पर्यावरण को कितना नुकसान पहुंचाया है ? इसलिए सदस्य सचिव पर्यावरण संरक्षण मंडल छत्तीसगढ़ के वार्षिक प्रतिवेदन का सभी को इंतजार है .

छत्तीसगढ़ शासन का मुख्य सचिव आगामी विधानसभा सत्र में पर्यावरण संरक्षण की जवाबदेही विषय पर क्या प्रतिवेदित करेगा ?

.पर्यावरण संरक्षण आज विश्व का सबसे चिंतनीय विषय है क्योंकि यह राजनीतिक सीमाओं में बंधने वाला या नियंत्रित किया जाने वाला विषय नहीं है . यह तो एक ऐसा विषय है, जिसमे दुनियां के सभी राजनीतिक शक्तियों को एक जुट करके पर्यावरण संरक्षण के लिए बाधा उत्पन्न करने वाले प्रदूषणों के प्रकार को नियंत्रित किया जा सकता है और प्रदूषण के कारकों को रोका जा सकता है.  छत्तीसगढ़ शासन भी पर्यावरण संरक्षण के लिए सभी संभव प्रयास करती रही है .  वर्तमान कार्यवाही वर्ष में प्रदूषण नियंत्रण के लिए किए गए प्रयासों को भी छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल का वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किए जाने पर वस्तुस्थिति स्पष्ट हो जायेगी और छत्तीसगढ़ शासन के विगत वर्ष के प्रदूषण नियंत्रण के प्रयास और उसकी सार्थकता भी जगा जाहिर हो जायेंगे .

जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने के लिए दुनिया के देश नेट जीरो का लक्ष्य हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं छत्तीसगढ़ को भी अपनी पर्यवरणीय जिम्मेदारी पूरी करने के प्रयास बढ़ाना पड़ेंगे 

  अमोल मालुसरे,सामाजिक कार्यकर्ता एवं राजनैतिक विश्लेषक

पर्यावरण संरक्षण में सुधार का प्रयास , उन प्रयासों से हुए बेहतर पर्यावरण का आधार , नियमानुसार समयबद्ध तरीक़े से व्यवस्थित रखे रिकॉर्ड्स होना चाहिये . वार्षिक प्रतिवेदन का आधार एक्चुअल डाटा होना चाहिये , खाना-पूर्ति नहीं . वायु प्रदुषण , जल प्रदूषण , के अलावा बायो-मेडिकल वेस्ट ,एमएसड्बल्यू , परिसंकटमय अपशिष्ठ , ई वेस्ट पर निगरानी ज़रूरी है

  मधुर चितलांग्या,प्रधान संपादक , पूरब टाइम्स

 

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.