• 19-04-2024 18:32:40
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

जब भी अंबानी फैमिली की बात होती है, तो इस घर का शायद ही कोई सदस्य ऐसा हो जिसके बारे में लोग न जानते हों। मुकेश अंबानी से लेकर उनके घर के बाकी सभी सदस्य की चर्चा किसी न किसी बात को लेकर होती है। वहीं, दूसरी तरफ अगर बात नीता अंबानी की करें, तो उनके बारे में भी लोग हर एक बात जानने को आतुर रहते हैं। वो कौन सी साड़ी पहनती हैं, उनके पास कार कितनी है आदि। ऐसे में हम आज आपको नीता अंबानी की लाइफस्टाइल के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे जानकर आप शायद हैरान हो जाएं। तो चलिए जानते हैं नीता अंबानी की लाइफस्टाइल के बारे में। अगली स्लाइड्स में आप इस बारे में जान सकते हैं... Mukesh Ambani wife Nita Ambani luxurious lifestyle check here all details 2 of 7 नीता अंबानी की लाइफस्टाइल। - फोटो : ANI ऐसे बनी अंबानी परिवार की बहू दरअसल, एक बार मुकेश अंबानी के पिता धीरुभाई अंबानी अपनी पत्नी कोकिलाबेन संग एक कार्यक्रम में गए थे। यहां उन्होंने नीता का डांस देखा, जो उनके मन को भा गया और साथ ही उन्हें नीता भी काफी पसंद आई। इसके बाद उन्होंने अपने बेटे मुकेश अंबानी से नीता की शादी करवा दी। विज्ञापन

-

चीन इन दिनों तेजी से बढ़ती श्वसन संबंधी बीमारी की चपेट में है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यहां 'मिस्टीरियस निमोनिया' का जोखिम तेजी से बढ़ता जा रहा है, विशेषतौर पर छोटे बच्चे इसके अधिक शिकार हो रहे हैं। असल में कोरोना महामारी के बाद तीन साल में ऐसा पहली बार है जब चीन बिना प्रतिबंधों के सर्दी के मौसम में प्रवेश कर रहा है। इसकी शुरुआत में ही पूरे देश में श्वसन संबंधी बीमारियों की लहर देखी जा रही है। छोटे बच्चों में सांस से संबंधित बीमारियों और निमोनिया के मामले रिपोर्ट हो रहे हैं। इसको लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अलर्ट जारी करते हुए सभी देशों को सावधानी बरतते रहने की सलाह दी है।

भारत की तैयारियों पर क्या बोले स्वास्थ्य-मंत्री?

चीन में विशेषकर बच्चों में माइकोप्लाज्मा निमोनिया और इन्फ्लूएंजा फ्लू के मामलों में वृद्धि के मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने शनिवार को कहा, सरकार स्थिति पर नजर रख रही है और बचाव के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे है। वैश्विक चिंता का कारण बने इस प्रकोप के बारे में पूछे जाने पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, आईसीएमआर और स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक चीन में निमोनिया के बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत को इस तरह के जोखिमों से कैसे बचाया जा सकता है, इसपर गंभीरता से ध्यान दे रहे हैं।

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.