• 23-05-2024 08:27:48
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

दुर्ग-भिलाई समाचार

भिलाई के हाईटेक अस्पताल का मामला गरमाया… डॉ. आर.के. खण्डेलवाल, नोडल अधिकारी, नर्सिग होम एक्ट, की जवाबदेही तय हुई

भिलाई के हाईटेक अस्पताल का मामला गरमाया… डॉ. आर.के. खण्डेलवाल, नोडल अधिकारी, नर्सिग होम एक्ट, की जवाबदेही तय हुई 

संभागीय संयुक्त संचालक, स्वास्थ्य सेवायें रायपुर ने कार्यवाही के निर्देश जारी किए हैं

अब कार्यवाही से नहीं बच पायेंगे मरीजों के अधिकारों को अनदेखा करने वाले जिम्मेदार अधिकारी

स्वास्थ्य विभाग ने स्वयं को कटघरे में खड़ा होने से बचाने के लिए जिला स्तरीय जांच प्रारंभ की है  

पूरब टाइम्स , भिलाई . छ.ग. में नर्सिंग एक्ट की अवहेलना करते हुए अनेक अस्पताल संचालित हो रहे हैं. समय समय पर उनके बारे में जानकारियां मिलती रहती हैं. एक्ट के अनुसार दिये जाने वाले , सही चिकित्सा सारांश मरीज़ों को अनेक अस्पताल नहीं देते हैं . केवल इतना ही नहीं , मासिक रिपोर्ट, खतरनाक बीमारी की डेली रिपोर्ट , बायो मेडिकल वेस्ट के डिस्पोज़ल की सही जानकारी भी अनेक अस्पताल नहीं देते हैं. कागज़ों की खानापूर्ति को सही मान कर , सरकारी अधिकारी आंखें बंद किये रहते हैं. इसे या तो अपने कर्तव्यों से कोताही कह सकते हैं या किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार का परिणाम मान सकते हैं. इन सबके ऊपर से शिकायतों पर सीधी कार्यवाही ना होना, मीडिया रिपोर्ट्स को संज्ञान ना लेना , नोटिस देकर कड़ी कार्यवाही ना करना और स्व स्फूर्त होकर जनता के सामने जानकारियां साझा नहीं करना , पारदर्शिता नहीं होना इत्यादि भी भारी गड़बड़ियों की संभावना दर्शाते हैं. पूरब टाइम्स की एक रिपोर्ट ...  

 

मरीज के परिजनों की व्यथा पर समाज सेवकों ने नोडल अधिकारी, नर्सिग होम एक्ट, जिला दुर्ग के विरूद्ध शिकायत दर्ज कराई

.भिलाई के हाईटेक नामक अस्पताल में एक मरीज के मृत्यु के उपरांत परिजनों को चिकित्सा सारांश और चिकित्सा व्यय राशि की रसीद नही दिए जाने के कारण मरीज के परिजन बेहद व्यथित हो गए थे. विडंबना यह है कि पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाने के बाद भी मृत मरीज के परिजनों को चिकित्सा सारांश और चिकित्सा व्यय रसीद अस्पताल प्रबंधन ने नही दी इसलिए समाज सेवक निशा देशमुख और अमोल मालुसरे ने नोडल अधिकारी, नर्सिग होम एक्ट, जिला दुर्ग के विरूद्ध शिकाय दर्ज करवाई , जिसकी जांच संभागीय संयुक्त संचालक, स्वास्थ्य सेवायें रायपुर द्वारा एक कमेटी गठित करके करवाई जा रहीं है l

 

सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक जिला चिकित्सालय, राजनांदगांव (छ.ग.) जांच कार्यवाही के लिए प्राधिकृत किए गए है 

.डॉ. आर.के. खण्डेलवार, नोडल अधिकारी, नर्सिग होम एक्ट, जिला दुर्ग के विरूद्ध शिकायत के संबंध में की जा रहीं जांच कार्यवाही में अब आरोपी प्राधिकारी की जवाबदेही तय हो गई है  

क्योंकि शिकायतकर्ता द्वारा प्रस्तुत शिकायत आवेदन पत्र के जांच / बयान के लिए शिकायतकर्ता को दिनांक 05.09.2023 दिन मंगलवार को कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला दुर्ग छ०ग० मे प्रातः 11:00 बजे शिकायती कथनो के प्रमाण संबंधी दस्तावेज / साक्ष्य सहित उपस्थित होने की सूचना दी गई है । गौर तलब रहे कि इस जांच कार्यवाही को करने के लिए सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक जिला चिकित्सालय, राजनांदगांव (छ.ग.) को प्राधिकृत किया गया है जो शिकायतकर्ताओं को उनका पक्ष रखने का अवसर देकर वस्तुस्थिति की जांच करेगा  .

 

नर्सिग होम एक्ट के विधि निर्देश की अवमानना करने वाले दुर्ग सीएमएचओ के अनियमित कार्य व्यवहार भी उजागर होंगे 

.भिलाई में संचालित हाईटेक अस्पताल की पंजीकृत स्थिति क्या है ? यह जानकारी जन सामान्य के लिए खोज का विषय है क्योंकि सीएमएचओ दुर्ग अपने कार्य क्षेत्र में संचालित होने वाले चिकित्सा व्यवसायियों की पंजीकृत स्थिति की जानकारी जन सामान्य की जानकारी में लाने के लिए विधि अपेक्षित कार्यवाही करता नजर नहीं आ रहा है . गौर तलब रहे कि विगत वर्षों में सीएमएचओ दुर्ग कार्यालय ने अपना पदेन कर्तव्य पूरा करते हुए कभी भी इस बात की जानकारी सार्वजनिक नहीं की है कि दुर्ग में कितने चिकित्सा व्यवसाई नर्सिंग होम एक्ट के तहत पंजीकृत हैं और कितने चिकित्सा व्यवसायियों ने नर्सिंग होम एक्ट के तहत प्रतिमाह दी जाने वाली जानकारी को विधिवत सीएचएमओ दुर्ग कार्यालय में प्रस्तुत करके अपनी पंजीकृत स्थिति को नियमित बनाए रखी है .

मरीजों के अधिकाओं को संरक्षित करने के लिए हम जो लड़ाई लड़ रहे है उसमे चिकित्सा न्याय शास्त्र और नर्सिग होम एक्ट के जानकर विधि विशेषज्ञ तकनीकी जानकारी देकर सहयोग कर रहे है .

अमोल मालुसरे ,समाजसेवक और राजनैतिक विश्लेषक 

भिलाई दुर्ग में अनियमित चिकित्सा व्यवसाई खुल्लेआम अपना चिकित्सा व्यवसाय चला रहें हैं और नोडल अधिकारी, नर्सिग होम एक्ट बस मूक दर्शक बने हुए है जिसके विरुद्ध मैं संघर्ष कर रहीं हूं 

समाज सेविका निशा देशमुख

अस्पतालों द्वारा नर्सिंग एक्ट का पालन कराने व उनकी जांच की ज़िम्मेदारी , सीएमएच कार्यालय की तरफ से नोडल अधिकारी नर्सिंग होम एक्ट की होती है . पिछले दिनों अनेक अस्पतालों के मनमानी करने की सूचना मिलती रही है पर क्या कार्यवाही हुई , इस जानकारी का अभाव संदेह पैदा करता है

मधुर चितलांग्या, प्रधान संपादक  

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.