• 29-05-2024 17:27:51
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

भारतीय जो न्यूयॉर्क, लंदन, दुबई और लिस्बन जैसे शहरों में खोज रहे हैं प्रॉपर्टी

नई दिल्ली: सिर्फ हम और आप ही नहीं, अकूत पैसे वाले भी रियल एस्टेट में निवेश को बेहतर इनवेस्टमेंट डेस्टिनेशन मानते हैं। इनका कहना है कि अगले दो से तीन साल में यह सेक्टर अच्छा प्रदर्शन करेगा। साथ ही इस क्षेत्र से मिलने वाला रिटर्न इंफ्लेशन को भी मात देने में कामयाब होगा। इसलिए ये लोग हाई राइज अपार्टमेंट, फार्म हाउस और होलीडे होम में जम कर इंवेस्टमेंट कर रहे हैं। इसका खुलासा इंडिया सोथबीज इंटरनेशनल रियल्टी के एनुअल लग्जरी आउटलुक सर्वे 2023 (Annual Luxury Outlook Survey 2023) से हुआ है।

संपन्न लोगों की क्या है पसंद
इस आउटलुक सर्वे में बताया गया है कि साल 2023-24 में 61 फीसदी हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल या एचएनआई (HNI) और अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल (UNHI) के लिए रियल एस्टेट एक आकर्षक इनवेस्टमेंट डेस्टिनेशन बना हुआ है। इनमें से 34% लोग हाई-राइज अपार्टमेंट और 30% लोग फार्म हाउस एवं हॉलिडे होम में निवेश करना पसंद करते हैं। सर्वे में भाग लेने वाले 23 फीसदी अमीन लोगों ने बढ़िया किराया देने वाले कमर्शियल रियल एस्टेट को भी पसंद किया। इनका कहना है कि यदि मौका मिला तो फिर वे इसी में निवेश करना चाहेंगे।

कितने की प्रॉपर्टी खरीदना चाहते हैं
एचएनआई चार से 10 करोड़ रुपये तक की प्रॉपर्टी में निवेश करना सबसे अधिक पसंद करते हैं। सर्वे में भाग लेने वाले करीब 65% लोगों ने कहा कि वह इसी सीमा के अंदर की प्रॉपर्टी की तलाश में रहते हैं। जबकि, 33% एचएनआई और अल्ट्रा-एचएनआई उपयुक्त लक्जरी प्रॉपर्टी के लिए 10 करोड़ रुपये से ज्यादा भी खर्च करने को तैयार रहते हैं। सही प्रॉपर्टी मिल जाए तो 13% एचएनआई 25 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च करने को तैयार

बीते साल 34% एचएनआई ने खरीदी लक्जरी प्रॉपर्टी
सर्वेक्षण यह भी पता चला कि अप्रैल 2021 से दिसंबर तक कम से कम 34% एचएनआई और यूएचएनआई ने लक्जरी अचल संपत्ति खरीदी है। चूंकि सही प्रॉपर्टी खोजने और फिर सौदा होने में समय लगता है, इसलिए आईएसआईआर का मानना है कि कई एचएनआई और यूएनएचआई अभी भी उपयुक्त कीमत वाले लग्जरी घरों की तलाश में हैं। इन्हें जैसे ही इनके मन की प्रॉपर्टी मिलेगी, तुरंत उसकी डील कर लेंगे।

क्या है लक्जरी प्रॉपर्टी खरीदने का मुख्य कारण
इंडिया सोथबीज इंटरनेशनल रियल्टी के सीईओ अमित गोयल का कहना है कि कोई भी व्यक्ति तभी प्रॉपर्टी खरीदता है जबकि उसकी पूंजी में वृद्धि होती है। इसके बाद आता है बेहतर जीवनस्तर (लाइफस्टाइल अपग्रेड)। साल 2023-24 में देखें तो लाइफस्टाइल अपग्रेड ही प्रॉपर्टी खरीदने के लिए प्रमुख कारण बना रहा। दिलचस्प बात यह है कि सर्वे में शामिल 12% धनवानों ने रियल एस्टेट को एक ऐसे एसेट क्लास के रूप में चुना, जिसमें मल्टी-जनरेशनल संपत्ति का निर्माण किया जा सके। इसे वह अपने परिजनों को भी हस्तांतरित कर सकते हैं।

धन कुबेर कहां खरीदना चाहते हैं लक्जरी प्रॉपर्टी
इस सर्वे के मुताबिक धन कुबेरों के लिए दिल्ली एनसीआर, मुंबई, गोवा और बेंगलुरु लक्जरी अचल संपत्ति खरीदने के लिए शीर्ष 4 शहर बने हुए हैं। एक और दिलचस्प आंकड़ा यह है कि भारत के 11 प्रतिशत धनवान विदेशों में अचल संपत्ति की तलाश कर रहे हैं। जबकि, इंडिया सोथबीज ने 2021 के अंत में जब इसी तरह का एक सर्वेक्षण किया था, तब विदेशी संपत्तियों में बहुत कम दिलचस्पी थी। जैसे जैसे महामारी का डर कम हो रहा है और वैश्विक आवागमन खुल रहा है, सम्पन्न भारतीय न्यूयॉर्क, मियामी, लंदन, दुबई और लिस्बन जैसे गेटवे शहरों में लक्ज़री अपार्टमेंट्स खरीदने की सोच रहे हैं।

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.