• 28-02-2024 19:28:50
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

देश

आम आदमी के 30 मौलिक अधिकार, जिनसे हम रहते हैं अक्सर अनजान

 

पूरब टाइम्स । मानवाधिकार से मतलब मौलिक अधिकारों और स्वतंत्रता से है, जिसके सभी इंसान हकदार हैं। इन्हीं अधिकारों की लड़ाई को मजबूत बनाने के लिए हर 10 दिसंबर को अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस मनाया जाता है। 1950 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में घोषणा के साथ इस दिन की शुरुआत हुई। 1948 में 10 दिसंबर को ही संयुक्त राष्ट्र महासभा ने मानवाधिकारों पर एक सार्वभौम घोषणापत्रा जारी किया, जो इंसानों के अधिकारों के बारे में बताता है। यहां हम इस घोषणापत्र में जारी उन 30 अधिकारों के बारे में ही बताने जा रहे हैं, जिनसे अक्सर लोग अनजान होते हैं।

1. सभी इंसान गरिमा और अधिकार के मामले में स्वतंत्र और बराबर हैं।
2. हर व्यक्ति को बिना किसी भेदभाव के सभी तरह के अधिकार और स्वतंत्रता दी गई है। जाति, रंग, लिंग, भाषा, धर्म, राजनीतिक या अन्य विचार, राष्ट्रीयता, संपत्ति, समाज जैसी बातों पर किसी भी तरह का भेदभाव नहीं किया जा सकता है।
3. हर इंसान के पास जीवन की आजादी और सुरक्षा का अधिकार है।
4. किसी भी तरह की गुलामी या दासता से आजादी का अधिकार होता है।
5. यातना, प्रताड़ना और क्रूरता से आजादी का अधिकार।
6. कानून की नजर में हर व्यक्ति समान।
7. कानून के सामने सभी को समान संरक्षण का अधिकार।
8. किसी भी अधिकार पर अतिक्रमण होने पर इंसाफ के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाने का अधिकार।
9. किसी को भी मनमाने ढंग से गिरफ्तार, नजरबंद या देश से निष्कसित न किया जा सके।
10. एक स्वतंत्र अदालत के जरिए निष्पक्ष सार्वजनिक सुनवाई का अधिकार।
11. अदालत की ओर से दोषी करार न होने तक व्यक्ति को निर्दोष होने का अधिकार।
12. किसी व्यक्ति के घर, परिवार, एकाकीपन और पत्र व्यवहार में निजता का अधिकार। उस पर किसी तरह का हस्तक्षेप न हो।
13. अपने देश में यात्रा की आजादी के साथ ही दूसरे देश में आने-जाने का अधिकार
14. किसी भी दूसरे देश में शरण मांगने का अधिकार।
15. राष्ट्र विशेष की नागरिकता का अधिकार।
16. जाति, राष्ट्रीय, धर्म की रुकावटों से दूर शादी करने और परिवार बढ़ाने का अधिकारी। साथ ही, शादी के बाद भी महिला और पुरुष में समानता का अधिकार।
17. हर इंसान को संपत्ति रखने का अधिकार।
18. किसी भी विचार और धर्म को अपनाने की आजादी का अधिकार।
19. हर इंसान को विचारों की अभिव्यक्ति की आजादी हासिल है। साथ ही, जानकारी हासिल करने का अधिकार है।
20. संगठन बनाने, संस्था का सदस्य बनने और सभा करने का अधिकार।
21. सरकार बनाने की गतिविधियों में हिस्सा लेने और सरकार चुनने का अधिकार।
22. सामाजिक सुरक्षा के अधिकार के साथ ही आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक अधिकारों की प्राप्ति का अधिकार।
23. हर व्यक्ति को काम करने का अधिकार, समान कार्य के लिए बिना किसी भेदभाव के समान भूगतान का अधिकार हासिल है। इसके साथ ही ट्रेड यूनियन में शामिल होने और उनके निर्माण का भी अधिकार हासिल है।
24. काम करने की तय घंटे, भुगतान और छुट्टियों का अधिकार।
25. इंसान को भोजन, मकान, कपड़े, चिकित्सा सुविधा और जरूरी सामाजिक सुरक्षा का अधिकार हासिल है। इसके साथ ही अच्छे जीवन स्तर के साथ अपनी और अपने परिवार के जीने का अधिकार भी हासिल है।
26. हर इंसान को शिक्षा का अधिकार हासिल है। वही, प्राथमिक शिक्षा सभी के लिए अनिवार्य है।
27. हर इंसान को सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेने और बौद्धिक संपदा के संरक्षण का अधिकार मिला हुआ है
28. हर इंसान को ऐसी सामाजिक और अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था का अधिकार प्राप्त है, जो यह सुनिश्चित करे कि इस घोषणापत्र का पालन हो सके।
29. हर इंसान की समुदाय के प्रति जवाबदेही है, जो एक लोकतांत्रिक समाज के लिए जरूरी है।
30. इस घोषणापत्र में शामिल किसी बात की ऐसी व्याख्या न हो, जिससे ये आभास मिले कि कोई राष्ट्र, व्यक्ति या गुट किसी ऐसे काम में शामिल हो सकता है, जिसका मकसद किसी स्वतंत्रता या अधिकार का हनन करना हो

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.