• 26-02-2024 05:12:51
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

गन्ने का न्यूनतम मूल्य बढ़कर 315 रुपए प्रति क्विंटल​ हुआ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार (28 जून) को कैबिनेट की बैठक हुई। इसमें कई अहम फैसले किए गए। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि कैबिनेट मीटिंग में सरकार ने अगले सीजन के लिए गन्ने के उचित और लाभकारी मूल्य (FRP) को बढ़ाने का फैसला किया है। FRP को सत्र 2023-24 के लिए 310 रुपए प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 315 रुपए प्रति क्विंटल किया गया है। सरकार के इस फैसले से 5 करोड़ से ज्यादा गन्ना किसान और इस पर आश्रित लोगों को फायदा होगा।

पिछले 9 सालों में गन्ने के रेट में 105 रुपए की बढ़ोतरी
पिछले 9 सालों में गन्ने के रेट में 105 रुपए की बढ़ोतरी की है। 2013'4 में इसकी FRP 210 रुपए प्रति क्विंटल पर था जो अब 2023-24 लिए बढ़ाकर 315 रुपए प्रति क्विंटल कर दिया गया है।

यूरिया सब्सिडी के लिए 3.68 लाख करोड़ रुपए का ऐलान
कैबिनेट कमिटी ऑन इकोनॉमिक अफेयर्स यानी CCEA ने 2022-23 से 2024-25 के बीच तीन साल के लिए 3,68,676.7 करोड़ रुपए की यूरिया सब्सिडी का ऐलान किया है। अब यूरिया पर मौजूदा सब्सिडी की अवधि बढ़ाकर 31 मार्च 2025 तक कर दी गई है।

FRP में किसानों में मिलेगा ज्यादा दाम
FRP वह न्यूनतम मूल्य है, जिस पर चीनी मिले किसानों से गन्ना खरीदना होता है। FRP में बढ़ोतरी से सीधा फायदा किसानों को होता है। किसानों को गन्ना बेचकर ज्यादा दाम मिलते हैं।

इससे पहले खरीफ फसलों के MSP में की थी बढ़ोतरी
इससे पहले इसी महीने कैबिनेट बैठक में खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) में बढ़ोतरी की थी। तब मूंग दाल के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सबसे अधिक 10.4%, मूंगफली पर 9%, सेसमम पर 10.3%, धान पर 7%, जवार, बाजरा, रागी, मेज, अरहर दाल, उड़द दाल, सोयाबीन, सूरजमुखी बीज पर वित्त वर्ष 2023-2024 के लिए लगभग 6-7% की वृद्धि की गई थी।

 

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.