• 28-02-2024 18:14:08
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

वेटरन एक्ट्रेस सुलोचना लाटकर का निधन

14 की उम्र में हो गई थी शादी, देव आनंद और राजेश खन्ना की मां का रोल निभाना पसंद था

रविवार देर रात वेटरन बॉलीवुड एक्ट्रेस सुलोचना लाटकर का निधन हो गया। 94 वर्षीय सुलोचना बीती 8 मई को रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन के चलते हॉस्पिटल में एडमिट हुईं थीं। सुलोचना ने साल 1940 में अपना करियर शुरू किया था और करीबन 250 हिंदी और मराठी फिल्मों में काम किया। बॉलीवुड में उन्हें धर्मेंद्र और अमिताभ बच्चन जैसे दिग्गज कलाकारों की मां के रूप में याद किया जाता है।

डायरेक्टर भालजी पेंढारकर ने दिया था नाम
एक इंटरव्यू में सुलोचना ने बताया था कि उनका असली नाम नगाबाई था। मशहूर मराठी डायरेक्टर भालजी पेंढारकर ने उन्हें सुलोचना नाम दिया था। महज 14 वर्ष की उम्र में सुलोचना की शादी कोल्हापुर के एक जमींदार आबासाहेब चव्हाण से हो गई थी।

अशोक कुमार के अपोजिट लीड रोल प्ले किया 
करियर की शुरुआत में सुलोचना ने कई हिंदी और मराठी फिल्मों में बतौर लीड एक्ट्रेस काम किया। इन फिल्मों में वे अशोक कुमार, त्रिलोक कपूर और नाजिर हुसैन जैसे एक्टर्स के अपोजिट नजर आईं।

देव आनंद, सुनील दत्त और काका की मां बनना पसंद था
सुलोचना ने अपने करियर में कई मशहूर एक्टर और एक्ट्रेसेस की मां या दादी/नानी की भूमिका निभाई। 1960 से 70 के दशक की शुरुआत में वे देव आनंद, सुनील दत्त, अमिताभ बच्चन, धर्मेंद्र और राजेश खन्ना जैसे सुपरस्टार्स की मां के रोल में नजर आईं। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि उन्हें देव आनंद, सुनील दत्त और राजेश खन्ना की मां का किरदार निभाना पसंद था।

1999 में पद्मश्री से सम्मानित हुईं
सुलोचना को 1999 में पद्मश्री और 2004 में फिल्मफेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। 2009 में महाराष्ट्र सरकार ने सुलोचना को प्रतिष्ठित महाराष्ट्र भूषण अवॉर्ड प्रदान किया।

अमिताभ को दिया था हाथ से लिखा खत
अमिताभ बच्चन के 75वें जन्मदिन पर सुलोचना ने उन्हें हाथ से लिखा एक खत दिया था। एक्ट्रेस ने इस खत में लिखा था, ‘मेरे प्यारे चिरंजीवी अमित। आज आप 75 साल के हो गए हैं। मराठी में इस खास दिन को अमृतमहोत्सव कहते हैं। मेरी ईश्वर से प्रार्थना है कि वह आपकी जिंदगी में यूं ही अमृतधारा बरसाते रहे।' इस लेटर को सुलोचना से लेते वक्त अमिताभ भी इमोशनल हो गए थे। सुलोचना ने 'मुकद्दर का सिकंदर', 'मजबूर' व 'रेश्मा और शेरा' जैसी फिल्मों में अमिताभ बच्चन की मां का किरदार निभाया था।

कुछ चर्चित फिल्में
‘आए दिन बहार के’, ‘गोरा और काला’, ‘देवर’, ‘जॉनी मेरा नाम’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’, ‘तलाश ‘ और ‘आजाद’ जैसी हिंदी फिल्में और ‘ससुरवास’, ‘वहिनींच्या बांगड्या’ और ‘ढकती जाओ’ जैसी मराठी फिल्में। 2007 में रिलीज हुई फिल्म ‘परीक्षा’ सुलोचना की आखिरी फिल्म थी।

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.