• 28-02-2024 18:58:59
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

रेसलर्स Vs बृजभूषण विवाद:किसान नेता राकेश टिकैत बोले- राष्ट्रपति से मिलेंगे खाप प्रतिनिधि, महाराष्ट्र की BJP सांसद पंकजा मुंडे का पहलवानों को समर्थन

भारतीय कुश्ती संघ (WFI) के पूर्व अध्यक्ष सांसद बृजभूषण शरण सिंह और रेसलर्स विवाद में किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि खाप के प्रतिनिधि राष्ट्रपति और सरकार से मिलेंगे। खाप और रेसलर्स हारेंगे नहीं। उधर, महाराष्ट्र से BJP की सांसद और गोपीनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे की भी एंट्री हो गई है। उन्होंने पहलवानों को समर्थन दिया है।पहलवानों के समर्थन में खाप पंचायतें खुलकर उतर आई हैं। बालियान खाप के चौधरी नरेश टिकैत की अध्यक्षता में मुजफ्फरनगर के शोरम में महापंचायत जारी है। इस बीच राकेश टिकैत भी वहां पहुंचे। उन्होंने कहा- खाप पंचायतों में जिम्मेदार आदमी हैं, उनसे बातचीत करके ये पता करेंगे कि क्या तय हुआ है। लेकिन इस मामले को राष्ट्रपति और गृह मंत्री अमित शाह के सामने भी उठाएंगे। कल हरियाणा के कुरुक्षेत्र में और फैसले लिए जाएंगे। 

पंकजा बोलीं- जांच होनी चाहिए
पंकजा मुंडे ने गुरुवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि एक सांसद के तौर पर ही नहीं बल्कि एक महिला के तौर पर भी मेरी उन महिला खिलाड़ियों में दिलचस्पी है। उन्होंने कहा कि जब इस तरह के आरोप लगे हैं तो इसकी समय पर जांच होनी चाहिए थी, सच सामने आना चाहिए था। सरकार की तरफ से किसी ने भी उन महिला खिलाड़ियों से संपर्क नहीं किया, जो होना चाहिए था।उन्होंने अपनी पार्टी को लेकर खुलकर नाराजगी जाहिर की है। पंकजा ने कहा कि मैं किसी चीज से नहीं डरती। डरना हमारे खून में नहीं है। अगर कुछ नहीं मिला तो मैं खेत में गन्ना काटने जाउंगी। मुझे स्वार्थ, आशा और इच्छा नहीं है। मैं बीजेपी की हूं, लेकिन बीजेपी मेरी थोड़ी है। बीजेपी एक बड़ी पार्टी है।

लगातार शर्तें बदल रहे पहलवान: ब्रजभूषण

गोंडा में WFI के पूर्व अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह ने गुरुवार को फिर कहा कि दिल्ली पुलिस मामले की जांच कर रही है। पहले पहलवानों की मांग कुछ और थी और बाद में मांग कुछ और हो गई। ये लगातार अपनी शर्तों को बदल रहे हैं। मैंने पहले दिन कहा था कि अगर एक भी प्रकरण मेरे ऊपर साबित हो जाएगा तो मैं फांसी पर लटक जाऊंगा। मैं आज भी अपने उसी बात पर कायम हूं। मेरा सभी से अनुरोध है कि आप पुलिस की जांच का इंतजार कीजिए।

सचिन के घर के बाहर पोस्टर
उधर, कांग्रेस ने सचिन तेंदुलकर को भी इस विवाद में घसीट लिया है। यूथ कांग्रेस ने मुंबई में सचिन के घर के बाहर प्रदर्शन करते हुए पोस्टर लगा दिया। हालांकि बाद में पुलिस ने उसे हटा दिया।पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी भी रेसलर्स के हक में उतर आईं। उन्होंने बंगाल में सड़क पर पैदल मार्च कर इंसाफ की मांग की।वहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने फोगाट फैमिली के बीच मतभेद का मामला उठाया। उन्होंने पूछा कि बबीता फोगाट धरना दे रहे पहलवानों के साथ क्यों नहीं हैं। उन्होंने कांग्रेस पर रेसलर्स के धरने काे राजनीतिक मुद्दा बनाने का आरोप लगाया। बजरंग पूनिया, विनेश फोगाट और साक्षी मलिक WFI के पूर्व अध्यक्ष के खिलाफ प्रदर्शन की अगुआई कर रही हैं।

सचिन से पूछा- क्रिकेट के भगवान चुप क्यों?
मुंबई में यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने सचिन तेंदुलकर के घर पोस्टर लगाया। जिसमें लिखा- आप खेल जगत में 'भगवान' हैं, लेकिन जब कुछ महिला खिलाड़ी यौन उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठा रही हैं तो आपकी इंसानियत नहीं नजर आती। ये पोस्टर यूथ कांग्रेस की सदस्य रंजीता विजय गोरे की तरफ से लगाया गया था।

ममता बोली- आरोपी गिरफ्तार क्यों नहीं, पार्टी रेसलर्स से मिलेगी
पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कोलकाता में हाजरा से रविंद्र सरोवर तक मार्च निकाला। ममता ने कहा- एक व्यक्ति पर शारीरिक शोषण का आरोप है, उसे गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा है?। बहुत जल्द तृणमूल कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल आंदोलन कर रहे खिलाड़ियों से मुलाकात करेगा। इसमें फुटबॉल टीम के पूर्व मिडफील्डर मेहताब हुसैन भी शामिल हुए।

स्मृति ईरानी ने बबीता फोगाट के साथ न होने पर उठाए सवाल
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा- बबीता फोगाट प्रदर्शनकारी पहलवानों का समर्थन क्यों नहीं कर रही हैं। वह तो उनके परिवार की सदस्य हैं। बबीता फोगाट से मेरी बात हुई। मैं जानना चाहती हूं कि विपक्ष के नेता इन पहलवानों को निष्पक्ष जांच से वंचित क्यों रखना चाहते हैं?। कांग्रेस इसे राजनीतिक मुद्दा बनाने से बाज आए तो बेहतर होगा, लेकिन यह उनकी आदत है और वे करेंगे।

इस मामले में अब तक क्या-क्या हुआ?

  • 18 जनवरी को जंतर-मंतर पर विनेश फोगाट, साक्षी मलिक के साथ बजरंग पूनिया ने धरना शुरू किया। आरोप लगाया कि WFI के अध्यक्ष बृजभूषण सिंह ने महिला पहलवानों का यौन शोषण किया।
  • 21 जनवरी को विवाद बढ़ने के बाद केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने पहलवानों से मुलाकात कर कमेटी बनाई, लेकिन कमेटी की रिपोर्ट आज तक सार्वजनिक नहीं हुई।
  • 23 अप्रैल को पहलवान फिर जंतर-मंतर पर धरने पर बैठ गए। उन्होंने कहा कि जब तक बृजभूषण की गिरफ्तारी नहीं होती, धरना जारी रहेगा।
  • 28 अप्रैल को पहलवानों की याचिका की सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली पुलिस ने बृजभूषण पर छेड़छाड़ और पॉक्सो एक्ट में 2 एफआईआर दर्ज की।
  • 3 मई की रात को पहलवानों और पुलिसकर्मियों के बीच जंतर-मंतर पर झड़प हो गई। झड़प में पहलवान राकेश यादव व विनेश फोगाट के भाई दुष्यंत और 5 पुलिस वाले घायल हुए।
  • 7 मई को जंतर-मंतर पर हरियाणा, यूपी, राजस्थान और पंजाब की खापों की महापंचायत हुई। इसमें बृजभूषण की गिरफ्तारी के लिए केंद्र सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया गया।
  • 21 मई को फिर महापंचायत हुई और इंडिया गेट पर कैंडल मार्च और 28 मई को नए संसद भवन पर महिला महापंचायत करने का फैसला लिया गया।

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.