• 28-02-2024 18:16:40
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

फ्लाइट में महिला पर पेशाब करने वाला गिरफ्तार पुलिस ने 42 दिन बाद बेंगलुरु से पकड़ा

न्यूयॉर्क से आ रही एअर इंडिया की फ्लाइट में महिला पर पेशाब करने वाले आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, दिल्ली पुलिस ने आरोपी शंकर मिश्रा को 42 दिन बाद बेंगलुरु से पकड़ा गया है। घटना पिछले साल 26 नवंबर की है। आरोपी लगातार अपनी लोकेशन बदल रहा था। मिश्रा एक इंटरनेशनल कंपनी में काम करता था। इस मामले के बाद कंपनी ने उसे नौकरी से निकाल दिया है। पुलिस ने आरोपी शंकर मिश्रा के पिता श्याम मिश्रा को भी नोटिस दिया है। वो कह रहे हैं कि मेरे बेटे पर लगाए गए आरोप फर्जी हैं। पीड़ित ने मुआवजा मांगा था, हमने वो भी दे दिया, फिर पता नहीं क्या हुआ। शायद महिला की मांग कुछ और रही होगी जो पूरी नहीं हो सकी, इसीलिए वह नाराज है। मुमकिन है कि उसे ब्लैकमेल करने के लिए ऐसा किया जा रहा हो।

आरोपी के पिता बोले- बेटा थका हुआ था
आरोपी के पिता ने कहा कि शंकर थका हुआ था। वह दो दिनों से सोया नहीं था। फ्लाइट में उसे ड्रिंक दी गई थी, जिसे पीकर वह सो गया। जब वह जागा तो एयरलाइन स्टाफ ने उससे पूछताछ की। मेरा बेटा सभ्य है और ऐसा कुछ नहीं कर सकता। उधर, पुलिस ने एअर इंडिया के स्टाफ को शनिवार सुबह 10.30 बजे के लिए दूसरा समन जारी किया है। पहले दिल्ली पुलिस ने विमान के स्टाफ को शुक्रवार के लिए नोटिस जारी किया था, लेकिन फ्लाइट का स्टाफ हाजिर नहीं हुआ।

आरोपी की नौकरी गई
उधर, आरोपी शंकर मिश्रा को वेल्स फार्गो एंड कंपनी ने नौकरी से निकाल दिया है। कंपनी ने कहा- हम प्रोफेशनल बिहेवियर के हायर स्टैंडर्ड पर काम करते हैं। हमारे कर्मचारी की ऐसी हरकत माफी के काबिल नहीं है। दिल्ली पुलिस ने आरोपी के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर (LOC) जारी किया था और उसके गायब होने की जानकारी वेल्स फार्गो कंपनी के अमेरिका स्थित कानूनी विभाग को भेजी थी।

मुंबई में आरोपी के घर सिर्फ मेड मिली
उधर, मुंबई में कुर्ला स्थित आरोपी के घर पर शुक्रवार को दिल्ली पुलिस पहुंची। यहां पुलिस को आरोपी और उसका परिवार नहीं मिला। घर पर काम करने वाली मेड संगीता मिली। उसने बताया कि इस घर में 3 बच्चे एक महिला के साथ रहते हैं। वह परिवार के सदस्यों का नाम नहीं जानती, लेकिन लास्ट नेम मिश्रा है। संगीता पिछले एक साल से इस घर पर काम कर रही है। बुधवार तक पूरा परिवार इसी घर पर था। गुरुवार को संगीता छुट्टी पर थी। शुक्रवार जब आई तो देखा घर बंद है। संगीता ने बताया कि मिश्रा परिवार ने बताया भी नही की वो कहां जा रहे हैं। इससे पहले हर बार जाने से पहले परिवार बताकर जाता था, घर पर रखी कार भी उन्हीं की है।

पीड़ित महिला और आरोपी की वॉट्सऐप चैट सामने आई
जिस महिला पर आरोपी शंकर मिश्रा ने एअर इंडिया की फ्लाइट में पेशाब की थी, उसकी पीड़िता से घटना के अगले दिन से वॉट्सऐप पर चैट शुरू हो गई थी। 27 नवंबर की चैट में पीड़ित महिला आरोपी से पांच हजार रुपए मिलने की बात कहती है। वह बताती है कि इससे उसकी बेटी और दामाद बेहद नाराज हैं, लेकिन मैंने उन्हें कंप्लेन फाइल करने से रोका यह कहते हुए कि आरोपी को बेहद पछतावा है। इसके जवाब में आरोपी पीड़ित का शुक्रिया करता है और आरोपी पीड़ित महिला को जल्द से जल्द पैसे देने की बात करता है। वह माफी मांगते हुए कहता है कि आइंदा ऐसी हरकत कभी नहीं होगी। फिर 28 नवंबर को आरोपी पीड़ित महिला को बताता है की उनके कपड़े साफ-सफाई के लिए भेजे गए हैं जो उन्हें अगले दिन लौटा देगा। इसके बाद कहता है की वह उन्हें 10 हजार रुपए ट्रांसफर कर रहा है। पीड़ित महिला पैसे मिलने की पुष्टि करती है और आरोपी से बेंगलुरु पहुंचने की बात कहती है। आरोपी महिला से कहता है की वह उनसे जुड़ी तमाम चीजों को रविवार तक उन तक पहुंचा देगा। इसके बाद दोनों के बीच चार दिसंबर को दुबारा चैट होती है, जिसमें आरोपी द्वारा महिला के घर कुरियर पहुंचाया जाता है। महिला की बेटी ने आरोपी को उसके द्वारा भेजे गए 15 हजार रुपए यह कहकर लौटा दिए कि पैसों से इस मामले की भरपाई नहीं हो सकती है। अगले ही दिन यानी 5 दिसंबर को महिला के मोबाइल फोन से आरोपी के फोन पर एक और मैसेज जाता है, जो महिला की बेटी भेजती है। इस मैसेज में बताया जाता है की पीड़ित महिला पूरी घटना से सदमे में है। परिवार बेहद नाराज है। पीड़ित महिला की बेटी कहती है की मामले की भरपाई पैसों से नहीं होगी और 15 हजार रुपए आरोपी को लौटा देती है।

आरोपी के पिता बोले- महिला की डिमांड ज्यादा थी
आरोपी शंकर मिश्रा के पिता श्याम मिश्रा ने कहा है कि ये पूरा केस झूठा है। महिला ने पैसे की डिमांड की थी, उसे दिया भी गया था, लेकिन शायद उसकी जो डिमांड थी, वो पूरी नहीं हुई, इसलिए उसने ऐसा आरोप लगा दिया। हम भी अपने बेटे से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं। वो कहां है, हमें पता नहीं है। मेरा बेटा ऐसा कुछ कर भी नहीं सकता है।

DGCA ने हथकड़ी जैसी डिवाइस की सिफारिश की
नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA ) ने फ्लाइट्स में यात्रियों पर पेशाब करने की घटनाओं को अपमानजनक शारीरिक हिंसा की श्रेणी में माना है। DGCA ने ऐसे अनियंत्रित यात्रियों को कंट्रोल करने के लिए फ्लाइट में हथकड़ी जैसे डिवाइस की सिफारिश की है, जिससे क्रू मेंबर्स उनकी हरकतें रोक सकें। भारत में एयर एशिया जैसी कुछ एयरलाइंस इसे एयरक्राफ्ट केबिन में रख रही हैं।

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.