• 30-06-2022 00:19:31
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

13 मिमी. लंबी रोबो फिश समुद्र से प्लास्टिक का सफाया करेगी

पूरब टाइम्स .दुनिया में प्लास्टिक पॉल्यूशन का कहर बढ़ता जा रहा है। इसके चलते समुद्र में माइक्रोप्लास्टिक साफ करने के लिए चीन की सिचुआन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक रोबोट फिश बनाई है। ये पानी में तैरकर प्लास्टिक के टुकड़े एक जगह से उठाकर दूसरी जगह रखने में सक्षम है।



और भी पढ़े : अपन तो कहेंगे :बड़ी हस्ती के कूदने से दुर्ग नगर निगम क्षेत्र की जनता का हो सकता है फायदा

पहले जान लें, क्या है माइक्रोप्लास्टिक?



और भी पढ़े : पर क्या निरंतरता बनी रहेगी

माइक्रोप्लास्टिक 5 मिलीमीटर या इससे छोटे प्लास्टिक के टुकड़े होते हैं। यह इतने छोटे होते हैं कि बिना मैग्निफाइंग ग्लास के इन्हें आंखों से देख पाना मुश्किल है। वैज्ञानिक इन पार्टिकल्स के प्रभाव को कम करने की कोशिश कर रहे हैं। ये पानी, खाने के सामान और जमीन की सतह जैसी जगहों में मौजूद रहते हैं। इनके जरिए ये शरीर में पहुंचते हैं।



और भी पढ़े : अपन तो कहेंगे: ऐसे वाकियों से उन पाखंडियों के चेहरे बेनकाब होते है

कैसे काम करती है रोबोट फिश?



और भी पढ़े : क्या आपने कभी पी है कोकोनट टी जानिए इसके फायदे और नुकसान

रोबो फिश मात्र 13 मिलीमीटर लंबी है। इसकी पूंछ में लेजर लाइट सिस्टम है, जिसकी मदद से यह तैरती है और एक सेकंड में तकरीबन 30 मिलीमीटर तक आगे बढ़ जाती है। गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक रोबोट को बनाने के लिए रिसर्चर्स ने एक ऐसे मटेरियल का इस्तेमाल किया है, जिससे यह मछली काफी फ्लेक्सिबल बन गई है।



और भी पढ़े : भारत समेत दुनियाभर में क्यों बढ़ रही है गर्मी

रोबो फिश एक बार में 5 किलोग्राम तक प्लास्टिक उठा सकती है। इसके साथ ही यह माइक्रोप्लास्टिक के तैरते हुए उन टुकड़ों को एब्जॉर्ब कर लेती है, जिनमें ऑर्गेनिक डाई, एंटी बायोटिक्स और हेवी मेटल होता है। यह चीजें फिश के मटेरियल से रिएक्ट कर जाती हैं।



और भी पढ़े : वैज्ञानिकों ने सबसे खतरनाक हीटवेव का पता लगाया

खुद का घाव भर सकती है रोबो फिश



और भी पढ़े : उपभोक्ता कौन है? एवं उसके अधिकार क्या है

रिसर्च में शामिल युयान वैंग ने बताया कि रोबो फिश सेल्फ-हील यानी खुद के घाव भरने में सक्षम है। इसे बनाने में जो मटेरियल इस्तेमाल हुआ है, इसकी मदद से यह डैमेज होने पर 89% तक अपने आप ही ठीक हो जाती है। समुद्र के वातावरण में अक्सर रोबोट्स के खराब होने की आशंका होती है।



और भी पढ़े : अपन तो कहेंगे: लगता है पीके

समुद्र में करोड़ों मेट्रिक टन प्लास्टिक मौजूद



और भी पढ़े : जी-23 का सीक्रेट एजेंट है

ऐसा अनुमान है कि समुद्र में हर साल 50 लाख से 1.3 करोड़ मेट्रिक टन प्लास्टिक पॉल्यूशन बढ़ रहा है। यह प्लास्टिक के मलबे से लेकर माइक्रोप्लास्टिक तक होता है। जापान की क्युशु यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की मानें तो अक्टूबर 2021 तक समुद्र में करीब 24 लाख करोड़ माइक्रोप्लास्टिक के टुकड़े हैं। ये कीड़े-मकौड़े से लेकर इंसानों तक, सभी के लिए खतरनाक है।



और भी पढ़े : तालपुरी की महिलाओं ने हिंदू नववर्ष मनाया और पार्षद सविता ढवस ने महिला उत्थान के लिए पहल की

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.