• 30-06-2022 01:58:35
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

छत्तीसगढ

सात साल की बच्ची ने खेलते खेलते निगला 5 का सिक्का

जाने एस.आर. अस्पताल में कैसे निकला 5 का सिक्का



और भी पढ़े : चुनाव आचार संहिता क्या होती है? यह कब लागू की जाती है

पूरब टाइम्स  चिखली (दुर्ग) ।  एस.आर. हॉस्पीटल एण्ड रिसर्च सेन्टर चिखली दुर्ग के डॉक्टरों एवं नर्सिंग स्टाफ की टीम की तत्परता से 7 साल की बच्ची की जान बचाई गई | रामपुर बेरला जिला बेमेतरा निवासी कृतिका यादव ने 5 रु. का सिक्का खेलते खेलते निगल लिया था। कृतिका के पिता जितेन्द्र यादव ने बताया कि बच्ची ने जब सिक्का निगल लिया तो तत्काल गाँव के डॉक्टर के पास इलाज के लिए गए। गांव के डॉक्टर ने बताया कि एस.आर. हॉस्पीटल चिखली दुर्ग में तत्काल एवं बेहतर एवं कम दरो में इलाज होता है । कृतिका का X-Ray कराने पर पाया गया कि शरीर के भीतर ₹ 5 का सिक्का है । अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने तत्काल मरीज का इलाज चालू  कर सिक्के को बाहर निकाला । कृतिका के माता पिता एवं परिजनों ने अस्पताल के डॉक्टरों एवं नर्सिंग स्टाफ की भूरी भूरी प्रशंसा की एवं कहां की सही समय पर सही अस्पताल पहुंचने पर हमारी बच्ची की जान बच गई  ।



और भी पढ़े : रहे शमीम खान द्वारा टाइफा (टीआईआईएफ ए) अवार्ड 2022 की ट्रॉफी हुई अन्विल अर्शी खान अनूप जलोटा चीफ गेस्ट रहे

अस्पताल के बाल व शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ एस. पी. केसरवानी ने बताया कि सही समय पर बेहतर सुविधाजनक अस्पताल पहुंचने पर कृतिका का ₹5 का सिक्का शरीर से बाहर निकाल दिया गया । डॉ. एस.पी. केसरवानी ने समस्त बच्चों के परिजनों से विनम्रता पूर्वक अनुरोध किया है कि बच्चों को सतत निगरानी में रखें एवं बच्चों को समझाइश देवें की मुंह में किसी भी चीज को ना डालें । बच्चों को किसी भी प्रकार दिक्कत होने पर तत्काल डॉक्टर से सम्पर्क करे किसी भी प्रकार की लापरवाही ना करें लापरवाही करना छोटे बच्चों के लिए जान का खतरा भी बन सकता है।



और भी पढ़े : अपन तो कहेंगे : छ ग के अगले विधानसभा चुनाव में अनेक भाजपाई महाबली इसी राजनीति का शिकार बनेंगे

अस्पताल के चेयरमैन संजय तिवारी ने बताया कि संस्था का मुख्य उद्देश्य प्रदेशवासियों को बेहतर इलाज प्रदान करना है । यह भी बताया कि ऑपरेशन थिएटर में अत्याधुनिक जीवन रक्षक उपकरण उपलब्ध है । अस्पताल की टीम 24 घंटे सेवाएं प्रदान करने के लिए तत्पर रहती है ।



और भी पढ़े : कम शब्दों में समझें -100लोक अदालत-100 के मायने

कृतिका का इलाज करने में डॉ. एस. पी. केसरवानी डॉ. पवन देशमुख डॉ. अंकिता डॉ सुशांत कान्डे ,डॉ. अश्वनी शुक्ला, डॉ. रजत डेहरिया, डॉ.सौम्या तिवारी, नर्सिंग स्टाफ हरी साहू प्रतिमा केरकट्टा, किशोर, श्रीमती विद्या गायकवाड, वंशिका, पायल खरे व अन्य देवदूतो ने अपनी सेवाएं प्रदान की ।



और भी पढ़े : कैसे मिलता है आम लोगों को इससे फायदा

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.