• 30-06-2022 01:19:50
  • Web Hits

Poorab Times

Menu

इन 5 समस्याओं को दूर करता है ब्रह्मकमल का फूल, जानें उपयोग का तरीका

ब्रह्म कमल फूल का उपयोग पूजा या हवन में किया जाता है। लेकिन आप चाहें तो इस फूल का इस्तेमाल अपनी स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने के लिए भी कर सकते हैं।



और भी पढ़े : अंग्रेजी इन -1005 अक्षरों-100 में छिपा है सुकून की नींद का रहस्य

Brahma Kamal Benefits: हिंदू धर्म में ब्रह्म कमल फूल का बहुत महत्व है। यह उत्तराखंड में पाया जाता है, इसका वैज्ञानिक नाम सासरिया ओबोवेलटा है। आयुर्वेद में ब्रह्म कमल फूल का उपयोग दवाइयां बनाने के लिए भी किया जाता है। ब्रह्म कमल फूल औषधीय गुणों से भरपूर होता है। यह खांसी-जुकाम, बुखार आदि समस्याओं के इलाज में कारगर हो सकता है। इसके साथ ही ब्रह्म कमल लिवर स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद होता है। अगर आपके घर के आस-पास भी ब्रह्म कमल का फूल उपलब्ध हो सकता है, तो आपको इसका उपयोग जरूर करना चाहिए।



और भी पढ़े : लीची की पत्तियों में होते हैं कई गुण

तो चलिए विस्तार से जानते हैं ब्रह्म कमल फूल से कौन-कौन से फायदे मिल सकते हैं।



और भी पढ़े : जानें सेहत के लिए इसके 7 फायदे और इस्तेमाल का तरीका

1. लिवर के लिए फायदेमंद 

ब्रह्म कमल का फूल लिवर स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। इस फूल को लिवर के लिए एक बेस्ट टॉनिक माना गया है। ब्रह्म कमल का फूल लिवर को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद कर सकता है। इसके लिए आप ब्रह्म कमल के फूलों का सूप बनाकर पी सकते हैं। यह शरीर की सूजन को कम करने में भी मदद करता है। साथ ही शरीर में रक्त की मात्रा बढ़ाने में भी फायदेमंद होता है।



और भी पढ़े : भूलकर भी घर में न लगाएं ऐसे Doorbell

2. घाव भरने में मदद

ब्रह्म कमल के फूलों का उपयोग घाव भरने के लिए भी किया जा सकता है। दरअसल, ब्रह्म कमल में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो त्वचा को बैक्टीरिया से बचाते हैं। साथ ही अगर आपको त्वचा पर कोई चोट लग गई है, तो इसमें ब्रह्म कमल का फूल फायदेमंद हो सकता है। यह चोट के घाव को जल्दी ठीक करने में मदद कर सकता है। इसके लिए आप ब्रह्म कमल के फूल का पेस्ट बना लें, इसमें प्रभावित स्थान पर लगाएं। इससे रक्तस्त्राव भी बंद होगा और घाव जल्दी भरेगा।



और भी पढ़े : इन बातों का रखें ध्यान

3. नर्वस सिस्टम के लिए फायदेमंद

ब्रह्म कमल का फूल नर्वस सिस्ट के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। इसका उपयोग तंत्रिका संबंधी विकारों के इलाज में किया जा सकता है। इस फूल में एसिटिन नामक तत्व होता है, जो एक नैचुरल ऐंठनरोधी है। इसके साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट भी होता है। ब्रह्म कमल का फूल शरीर में रक्त को शुद्ध करने में मदद कर सकता है।  लेकिन अगर आपको नर्वस सिस्टम से जुड़ी कोई समस्या है, तो इस स्थिति में डॉक्टर की सलाह पर ही इसका सेवन करें।



और भी पढ़े : आम आदमी के 30 मौलिक अधिकार

4. खांसी-जुकाम को ठीक करने में कारगर

अगर आपको अकसर ही खांसी-जुकाम रहता है, तो इस स्थिति में आप ब्रह्म कमल के फूलों का सेवन कर सकते हैं। यह फूल खांसी, सर्दी के इलाज में मदद कर सकता है। ब्रह्म कमल के फूल में एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। ये तत्व श्वसन प्रणाली में सूजन कम करने में मदद करते हैं। रोगाणुओं को रोकने में भी मदद कर सकते हैं। इस तरह से यह फूल खांसी और जुकाम का इलाज कर सकता है। आयुर्वेद में अस्थमा और ब्रोंकाइटिस के इलाज में भी ब्रह्म कमल फूल का इस्तेमाल किया जाता है। आप चाहें तो डॉक्टर की सलाह पर इस फूल का सेवन कर सकते हैं।



और भी पढ़े : जिनसे हम रहते हैं अक्सर अनजान

5. बुखार का इलाज करे ब्रह्म कमल फूल

ब्रह्म कमल के फूल में ज्वरनाशक गुण होते हैं। इसका मतलब है कि यह बुखार के इलाज में मदद करता है। ब्रह्म कमल के फूल का काढ़ा पीने से बुखार की समस्या से राहत मिल सकती है। बुखार होने पर आप इस फूल के काढ़े को दिन में दो बार बनाकर पी सकते हैं। इससे आपको काफी आराम मिलेगा।



और भी पढ़े : CRPF के DIG सुनील कुमार पर छत्तीसगढ़ के लेखक की पुस्तक

ब्रह्म कमल का फूल गठिया रोग में भी फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा यह हृदय विकारों के इलाज में भी लाभकारी हो सकता है। बता दें कि ब्रह्म कमल का फूल किसी भी बीमारी का संपूर्ण इलाज नहीं है, लेकिन इसके उपयोग से लक्षणों को बढ़ने से रोका जा सकता है। किसी भी स्वास्थ्य समस्या का इलाज करने के लिए आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। 



और भी पढ़े : साहसिक कामों का जिक्र

 



और भी पढ़े : 21 जून अंतरराष्ट्रीय योगा दिवस की तैयारी जोरों पर

 



और भी पढ़े : 7 दिन के अंदर बंद नहीं हुआ क्रेडिट कार्ड तो कार्डधारक को हर दिन मिलेंगे ₹500

 



और भी पढ़े : राष्ट्रपति का चुनाव कैसे होता है और कौन करता है?

 



और भी पढ़े : डीईओ बताइये

 



और भी पढ़े : छत्तीसगढ़ राज्य में कितने बच्चे फेल हुए और उनमें से डीपीएस रिसाली के कितने बच्चे हैं ?

 



और भी पढ़े : अपन तो कहेंगे: कांग्रेस को बूढ़े नेताओं की क्या जरूरत क्योंकि लाखों 50 वर्ष से कम उम्र के युवा कांग्रेस से जुड़ रहे है

Add Rating and Comment

Enter your full name
We'll never share your number with anyone else.
We'll never share your email with anyone else.
Write your comment
CAPTCHA

Your Comments

Side link

Contact Us


Email:

Phone No.